higher-education

स्कॉलरशिप से विदेशों में पढ़ना हुआ आसान

Webdesk | Wednesday, December 20, 2017 3:52 PM IST

स्कॉलरशिप से विदेशों में पढ़ना हुआ आसान

इनलैक्स स्कॉलरशिप द्वारा अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन के कई इंस्टीट्यूट्स में स्टडी के लिए फंडिंग की जाती है। इसमें ट्यूशन फीस, लिविंग एक्सपेंस और वन वे ट्रैवल का खर्च कवर किया जाता है। 

विदेश में हायर स्टडीज के इच्छुक टैलेंटेड इंडियन स्टूडेंट्स को इनलैक्स फाउंडेशन स्कॉलरशिप देता है। इस स्कॉलरशिप द्वारा यंग एवं एक्सेप्शनल टैलेंट्स को अपनी स्किल सुधारने में मदद की जाती है ताकि वे भविष्य में बदलाव के लीडर बन सकें। इस स्कॉलरशिप द्वारा अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन के टॉप इंस्टीट्यूट में स्टडी के लिए फंडिंग की जाती है। इसके तहत ट्यूशन फीस, लिविंग एक्सपेंस, और वन वे ट्रैवल का खर्च कवर किया जाता है। 

आवेदन करते समय कैंडिडेट को किसी विदेशी इंस्टीट्यूट में स्टडी का पूरा प्रस्तावित प्रोग्राम, टाइम और ट्रैवलिंग प्लान, खर्च का पूरा विवरण और इंस्टीट्यूट में एडमिशन या एग्रीमेंट का प्रूफ देना पड़ सकता है। 

एलिजिबिलिटी : यह स्कॉलरशिप सभी भारतीय नागरिकों के लिए है। आमतौर पर यह उम्मीद की जाती है कि कैंडिडेट ने किसी मान्यताप्राप्त यूनिवर्सिटी से बहुत अच्छे माक्र्स के साथ ग्रेजुएशन किया हो। ऐसे कैंडिडेट भी अप्लाई कर सकते हैं, जिन्होंने ग्रेजुएशन विदेश से किया है, लेकिन शर्त यह है कि वे इस कोर्स के बाद लगातार दो साल तक भारत में रहे हों। भारत से बाहर पीजी डिग्री हासिल कर चुके कैंडिडेट इसके लिए अप्लाई नहीं कर सकते। कैंडिडेट की मैक्सिमम एज 1 जुलाई, 2015 को 30 साल तक होनी चाहिए। स्कॉलरशिप के लिए एप्लीकेशन फॉर्म 15 अप्रैल तक निम्न पते से हासिल किए जा सकते हैं :

इनलैक्स शिवदासानी फाउंडेशन सी/ओ-इनलैक्स इंडिया फाउंडेशन, 86/87 अटलांटा, नरीमन प्वाइंट, मुंबई- 400021

भरे हुए एप्लीकेशन फॉर्म इसी एड्रेस पर 15 अप्रैल तक ही जमा किए जा सकते हैं। 

लास्ट डेट :15 अप्रैल, 2015 

वेबसाइट: http://inlaksfoundation.org

आइआइटीबी-मोनाश स्कॉलरशिप 

पीएचडी की इस स्कॉलरशिप के लिए बीटेक, एमटेक, एमई और एमएससी के फाइनल ईयर के स्टूडेंट अप्लाई कर सकते हैं। आइआइटीबी-मोनाश रिसर्च एकेडमी, आइआइटी बॉम्बे और मेलबर्न की मोनाश यूनिवर्सिटी के बीच एक बेहतरीन साझेदारी है। इस एकेडमी द्वारा संयुक्त रूप से पीएचडी प्रोग्राम चलाया जाता है। प्रोग्राम के तहत यह स्कॉलरशिप उन पीएचडी स्टूडेंट्स को दी जाएगी जो साइंस, टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर साइंस, आइटी, इंजीनियरिंग, ह्यूमनिटीज, डिजाइन और मैथमेटिक्स के फील्ड में रिसर्च करने जा रहे हों। इसके तहत स्टूडेंट्स को पीएचडी का खर्च, दोनों इंस्टी?ट्यूट के प्रोफेसर्स का सुपरविजन, ज्वाइंट पीएचडी डिग्री हासिल होगी और इंटरनेशनल लेवल की रिसर्च फैसिलिटी और एक्सपीरियंस हासिल होगा। 

एलिजिबिलिटी : इस स्कॉलरशिप के लिए किसी रेपुटेड यूनिवर्सिटी से फस्र्टक्लास मास्टर्स डिग्री या इंजीनियरिंग/साइंस में बैचलर डिग्री रखने वाले कैंडिडेट अप्लाई कर सकते हैं। कैंडिडेट को इसके लिए ऑनलाइन 'एक्सप्रेशन ऑफ इंस्ट्रेस्ट' सबमिट करना होगा। जो कैंडिडेट ईओआइ राउंड में सफल होंगे, उन्हें ही फॉर्म सबमिट करने का मौका मिलेगा। फॉर्म सूटेबल पाए जाने पर कैंडिडेट को ई-मेल से सूचना भेजी जाएगी और उन्हें इंटरव्यू के लिए कॉल किया जाएगा। इंटरव्यू राउंड में सफल कैंडिडेट्स ही इस स्कॉलरशिप के लिए सलेक्टेड माने जाएंगे। 

लास्ट डेट : 22 मार्च, 2015 

वेबसाइट : http://www.iitbmonash.org 

केसी महिंद्रा स्कॉलरशिप 

विदेश में हायर स्टडीज के इच्छुक टैलेंटेड भारतीय स्टूडेंट्स को केसी महिंद्रा एजुकेशन ट्रस्ट द्वारा ब्याज रहित लोन स्कॉंलरशिप दी जाती है। इसके तहत टॉप 3 कैंडिडेट को 8 लाख रुपये की और बाकी सिलेक्टेड कैंडिडेट को 2 लाख रुपये की स्कॉलरशिप दी जाती है। भारतीय नागरिकों में इंजीनियरिंग, नेचुरल साइंसेज, ह्यूमनिटीज, मेडिसिन और बिजनेस मैनेजमेंट के एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए 1953 में इस ट्रस्ट की स्थापना की गई थी।

एलिजिबिलिटी : कैंडिडेट ने किसी मान्यताप्राप्त भारतीय यूनिवर्सिटी से फस्र्ट क्लास डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा हासिल किया हो। फाइनल ईयर के स्टूडेंट भी अप्लाई कर सकते हैं, लेकिन उन्हें 30 जून, 2015 तक अपना सर्टिफिकेट दिखाना होगा। एप्लीकेंट को किसी रेपुटेड फॉरेन यूनिवर्सिटी में एडमिशन मिल चुका हो या उसने उसके लिए अप्लाई किया हो। और अधिक जानकारी के लिए फाउंडेशन की बेबसाइट देख सकते हैं। 

लास्ट डेट : 31 मार्च, 2015 

वेबसाइट : www.kcmet.org